Saturday, July 23, 2005

गोर्की के प्रति प्रेमचन्द के विचार

गोर्की की जगह लेने वाला कोई नहीं रहा
-प्रेमचन्द
प्रेमंचद और गोर्की समकालीन लेखक थे। प्रेमंचद का गोर्की के साहित्य से परिचय अंग्रेजी माध्यम से हुआ और इस शताब्दी के तीसरे दशक में गोर्की की कृतियों के भारतीय भाषाओं में अनुवाद होने आरंभ हो गये। गोर्की के प्रति उनकी श्रद्धा का ज्ञान गोर्की के देहांत के बाद होता है, जब वे गोर्की के देहांत पर आयोजित शोक-सभा में पढ़ने के लिए, बीमारी के बावजूद, अपना लेख लिखनें में लग जाते हैं।
शिवरानी देवी ने इस घटना का बड़ा यथार्थपूर्ण वर्णन किया है। बनारस से प्रकाशित होने वाले दैनिक अख़बार `आज' कार्यालय में शोक-सभा आयोजित की गयी थी। प्रेमचंद को इसकी अध्यक्षता करनी थी और गार्की पर अपना लेख पढ़ना था। एक रात को शिवरानी देवी की आँख खुल गयी तो देखा कि प्रेमचंद जमीन पर बैठ गोर्की पर लेख लिख रहे हैं। इस पर शिवरानी बोली, ``आप यह क्या कर रहे हैं?''
प्रेमचंद, ``कुछ नहीं।''
शिवरानी,``नहीं, कुछ तो लिख रहे हैं।''
प्रेमचंद, ``परसों `आज' आफ़िस में गोर्की की मृत्यु पर मीटिंग होने वाली है''
शिवरानी, ``जब तबीयत ठीक नहीं तो भाषण कैसे लिखा जायेगा?''
प्रेमचंद बोले, ``जरूरी तो है। बिना लिखे काम नहीं चलेगा। अपनी खुशी से काम करने में आराम या तकलीफ का बोध नहीं होता। जिसको आदमी कर्त्तव्य समझ लेता है, उसके करने में मनुष्य को कुछ भी तकलीफ नहीं होती। इन कामों को आदमी सबसे ज्यादा जरूरी समझता है।''
शिवरानी बोली, ``यह मीटिंग है कैसी?''
प्रेमचंद बोले, ``शोक-सभा है।''
शिवरानी बोली, ``वह कौन से हिंदुस्तानी थे?''
प्रेमचंद बोले, ``यही तो हम लोगो की तंगदिली है। गोर्की इतना बड़ा लेखक था कि उसके विषय में जातीयता का सवाल ही नहीं उठता। लेखक हिंदुस्तानी या यूरोपियन नहीं देखा जाता। वह जो लिखेगा, उससे सभी को लाभ होता है?''
प्रेमचंद बोले, ``तुम गलती करती हो रानी! लेखक के पास होता ही क्या है, जिसे वह अलग-अलग बाँट दे। लेखक जो तपस्या करता है, उससे जनता का कल्याण होता है। वह अपने लिए कुछ भी नहीं करता।''
शिवरानी ने कहा, ``यहाँ वालों को तो पहले अपनों की पूजा करनी चाहिए। आगरे का कवि-सम्मेलन आपको याद नहीं रहा क्या? जब हरिऔध जी को भरी सभा में कुशब्द कहा गया था। आप ही उस पर बिगडे भी थे। और लोग तो चुप रह गये थे।''
प्रेमचंद गंभीर होकर बोले, ``इनमें लेखकों और पाठकों का दुर्भाग्य है, क्योंकि जब तक उनके दिलों में उनके प्रति श्रद्धा और प्रेम न हो तब उनके उपदेश वे ले ही कैसे सकते हैं?''
शिवरानी से इसी प्रकार बात करते-करते सवेरे के चार बज गये। शिवरानी ने देखा कि लिखते समय उनकी आँखों में आँसू थे। प्रेमंचद, सुबह हुई तो शोक-सभा में जाने के लिए तैयार होने लगे। शिवरानी उन्हें कमजोरी के कारण रोकना चाहती थीं, परंतु प्रेमचंद की तबीयत बिना जाये मान नहीं रही थी। इस पर श्रीपतराय को उनके साथ भेजा, परन्तु प्रेमचंद अपनी अस्वस्थता के कारण भाषण पढ़ना तो दूर, खडे भी नहीं हो सके। इस पर उनका लिखित भाषण किसी अन्य व्यक्ति ने पढ़ा। प्रेमचंद घर लौटे तो सीढ़ियों से ऊपर न चढा गया। ऊपर पहुँचकर चारपाई पर लेट गये। शिवरानी से बोले, ``गोर्की के मरने से मुझे बहुत दुख हुआ। मेरे दिल में यही आ रहा है कि गोर्की की जगह लेने वाला कोई नहीं रहा।''
प्रेमचंद इसके बाद कई दिनों तक गोर्की की चर्चा करते रहे। उनकी दृष्टि में गोर्की के समकक्ष कोई दूसरा लेखक नहीं था। हमारा दुर्भाग्य यह है कि प्रेमचंद का गोर्की की शोक-सभा के लिए लिखा भाषण अभी तक अनुपलब्ध है। यह एक ऐसा महत्वपूर्ण दस्तावेज है जिसकी खोज अवश्य ही की जानी चाहिए।
***
प्रस्तुति-
-डॉ॰ कमलकिशोर गोयनका
[गोर्की के विचार]

``संसार के अन्य सभी देशों की तुलना में भारत के लोगों ने ही सबसे पहले आदर्श की खोज शुरू की थी और उसकी सैद्धांतिक खोज में वे ही सबसे आगे गये।''
***
``मानव जाति का इतिहास यूनान और रोम से नहीं, भारत और चीन से आरंभ करना चाहिए।''
***
``तीस करोड़ भारतीयों को अंग्रेज लार्ड और व्यापारी फूटी आँखों नहीं सुहाते और वे अधिकाधिक यह समझते जा रहें हैं कि इंग्लैड के दास होने की भूमिका भगवान ने उनके लिए निर्धारित नहीं की है।''
***
``भारत में राष्ट्रीय क्रान्ति ने अपने को काफी ठोस रूप में प्रकट किया है और बहुत पहले, अतीत में भी सिपाहियों के विद्रोह को भी इस तरह स्पष्ट करना बहुत कठिन है कि भारतीय निरंकुश शासन के अभ्यस्त है।''
***
``भारत में इस बात का विश्वास दिलाने वाली आवाज अधिकाधिक जोर पकड़ती जा रही है कि अब वह समय आ गया है, जब भारतीयों के लिए सामाजिक और राजनैतिक निर्माण-कार्य अपने भारत में अंग्रेजी राज के दिन पूरे हो चुके है।''
***
प्रस्तुति-
-डॉ॰ कमलकिशोर गोयनका
(सारिका, नवम्बर 1986, से साभार)
हिन्दी साहित्य पर पहुँचे gg